• Breaking News

    Thursday, December 15, 2016

    मीठा की एक ही आरजु............ मीठा-मीठा गट..... कडवा-कडवा थू

    लो भियां आज फिर तुमकों बता रिया कि साहब लोगों की कैसी रहती है आरजु....... करते है मीठा-मीठा गट और कडवा कडवा थू......  भियां में कोई झुठ नही बोल रिया हुं..... कोई भी कार्यालय में चले जाओं भ्रष्ट आपकी चप्पल नी घिसवा दे तो बताना.... मैं तो के रिया हुं...... भले चप्पल घिस जाए तो घिस जाए..... चप्पले तो दुसरी लें आऐगे....... पर काम तो हो जाए...... लेकिन भ्रष्ट तो है कि अपहरण के मामले में भी डकारने से बाज नी आ रिये है.... जब तक लगे मीठा मीठा तब तक करते है गट और जहां बारी आई कडवे की तो कर देते हैं थू...... ज्यादा घुमा फिरा के बात नी करू सीधा सीधा बता दुं...। 
    मार्च में लंबेला की नाबालिग युवती का कुंदनपुर से अपहरण हुआ था। अपहरण के बाद से ही नाबालिग का बाप और दादा पुलिस के अदने से पुलिस से लेकर आलाधिकारी तक दौड रिये..... पर भियां पीडितों को न्याय अब तक नी मील रिया... बात मीडिया में आई तो मीठा मीठा गट करने वाला सोशल मीडिया पर सफाई दे रिया की... अच्छी मसालेदार गासिंप है... मेरे कने 101 एमबी की वीडियों है.... भूरा वाखला निवासी लम्बेला का.........कब कब और कितने कितने रूपये की भांजगडी उसके द्वारा की गई.........उसकी लांस्ट डिमान्ड  क्या है....पुलिस को माध्यम बना कर लडकी के बदले धन प्राप्ति की...........।
    अब भियां मीठे को कौन बताए कि भूरा कोई भांजगडिया नही वरन नाबालिग का दादा है..... जो अपनी पोती के लिए मप्र सहित राजस्थान, गुजरात की खाक छान छुका है.....तो इंदौर आईजी, डीआईजी कार्यालय में देवरा धोक चुका है..... पर न्याय नही मिला तो मीडिया का सहारा लिया..... मीठे के पास 101 एमबी की वीडियों थी तो क्यों न उसे उसी तरह सार्वजनिक करी.... जिस तरह छोटी सी चोरी का खुल्लासा कर बडी वाहवाही लुटते है... भियां जमाना ही भ्रष्टों का है। देखो..... न....... कोई आय से अधिक संपत्ती के मामले में तो कोई रिश्वत के मामले में लोकायुक्त की गिरफत में आ रिया है...... ऐसे में गरीबों को न्याय मिलना अब ना मुमकिन ही है...... रही बात मीठे को मिर्ची लगने की तो भियां ऐसा काम ही क्यों करें की समाचार पर सफाई देनी पडे..... सच के रिया हुं.... जिले में भूरा ही ऐसा पीडित नहीं है.... ऐसे दर्जनों तो ठिक सैकडों मामले है.... पर मीठे के हमजोली मामले को ले...दे...के... ने वईं दबा रिये है। तभी तो जनसुनवाई से लेकर शिकायते आईजी डीआईजी तक पहुंच री है..... 
    भियां भूरा भांजगडी कर रिया और रूपए मांग रिया तो अभी तक मीठा भूरा पर मामला दर्ज क्यों नी कर रिया..... हमारे जिले में तो भील पंचायतों में भांजगड अनादीकाल से चली आ रही है.... इस मामले में भी भूरा पैसों के लिए पुलिस को माध्यम बना रिया तो बता दुं.....मैं... कि पुलिस ही ज्यादातर मामलों की भांजगडियां करवाती है। मीठा दुध का धुला होता तो कब से ही नाबालिग के अपहरण के मामले में दुध का दुध पानी का पानी कर देता। 
    एक और सही बात बता रिया हुं की डीआईजी के निर्देश के बाद मीठा लडकी को पेश कर बयान करवाने का दावा ठोक रिया है पर। बयान कब, कहां और किसके समक्ष हुए। नाबालिग के बयान उसके माता-पिता, दादा भूरा की उपस्थिति में हुए और बयान पर माता पिता सहित परिजनों के हस्ताक्षर अथवा अंगुठा निशानी हो तो मीठा इसका खुल्लासा करें नी तो बंद करें मीठा मीठा गट.......कडवा कडवा थू ......का धंधा।


    बस अब जा रिया हुं.....मीठे को गुस्सा आए तो आए। जयहिन्द जयभारत......... 

    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY