• Breaking News

    Thursday, December 8, 2016

    ये पैराशूट नेता कहाँ से आई ........ .भ्रम में नही रहे भाजपा





    अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई अर्थात् परिश्रम कोई और ने किया, और लाभ किसी और को मिला। गुटों में बंटी भाजपा में जिलाध्यक्ष की घोषणा के बाद जो कार्यकारणी घोषित हुई  वैसे ही भाजपा में नुराकुश्ती चालू हो गई। इन दिनों भाजपा की स्थिति ठीक वैसी है जैसे ढाई दिन में चले अढाई कोस और इन सब का जब कारण टटोला तो पता चला इन सब का कारण है बंदर की तरह छलांग मारने वाले पल्टी मार नेता।   
    कभी नाके के खास आज बंदर की तरह पल्टी मार जिलाध्यक्ष की गोद में बैठे नजर आ रहे है। तो संगठन में विक्रम की कृपा प्राप्त कर काबिज हुए पल्टी मार नेता संगठन को मजबुत करने की बजाय ग्रामीण अंचल के नेताओं को जादू की झप्पी देकर शराब और शबाब की पार्टियों में मशगुल हो रहे है।
     अब अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई अर्थात् परिश्रम कोई और ने किया, और लाभ किसी ओर को मिले तो ऐसा होना ही है। जिसने पार्टी के लिए कभी झंडे नही उठाए। जो कभी अपने आप को बचाने के लिए संघ के खिलाफ बोला था ऐसे लोगों को कार्यकारणी में शामिल करना कहा न्यायौचित है।
    पेटलावद है इसका ताजा उदाहरण
    पेटलावद क्षेत्र में पार्षद उपचुनाव हुआ लेकिन संगठन में प्रमुख यानी जिलाध्यक्ष की नजर में शायद यह उपचुनाव महत्वपूर्ण नही था। अंदर की खबर रखने वाले बताते है कि जिलाध्यक्ष चुनाव प्रचार के लिए एक दिन भी पेटलावद नही पहुंचे और झाबुआ में बैठे कार्यकर्ताओं को अनुशासनहीनता का पाठ पढा रहे है। मगर स्वंय अनुशासनहीनता की सीख नहीं ले रहे है। अगर स्वयं इसका पालन करते तो पेटलावद पार्षद उपचुनाव में कांग्रेस को जीत नही मिलती। इस चुनाव को छोटा न समझे, इस छोटे से झटके के बाद भी यदि भाजपा संगठन नही समझता है तो 2018 तक ऐसी स्थिति बन जायेगी कि भगवान ही भाजपा का भला करें। 
    चौराहों की बनी चर्चा 
    अभी तो गली-मोहल्ले और चौराहों पर ये ही चर्चा सुनने में आ रही है जिसने भाजपा के झंडे नही उठाए, जो कभी भाजपा के कार्यक्रमों मे नही दिखाई दी उसे संगठन में वरिष्ठ नेता द्वारा इतना बडा पद देने के बाद अब नगर पालिका अध्यक्ष के चुनाव के लिए तैयार किया जा रहा है। संगठन मे आते ही सोशल मीडिया पर फोटो डालना, चौरााहों पर लगे होर्डिग आदि बातों को लेकर चौराहों पर कार्यकर्ता चटकारे बात कर रहे है कि आखिर ये वरिष्ठ नेता इस महिला नेत्री पर इतना मेहरबान क्यों है? बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए निकले संगठन के पदाधिकारियों को अपने से ज्यादा महिला नेत्री के फोटो की चिंता थी, ऐसा लगता है कि इन्हें वरिष्ठ नेता  हवाई यात्रा के दौरान  पैराशूट से सीधे नीचे उतार कर लाये है।

    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY