• Breaking News

    Wednesday, February 1, 2017

    गुलाबी गांधी के चक्कर में........... / पेराशुट नेता डुबोयेगी कांग्रेस की लुटिया


              लो भियां..... मैं फिर आ गिया....... कुछ कहीं-अनकही बातों के साथ..... भियां काले साये में पैदा हुआ कातिये का खासम-खास कांग्रेस नेता एक बार क्षेत्र में कांग्रेस की लुटिया डुबाने में लग गिया है....... भियां कातिया के काले कारनामों का पार्टनर ये कांग्रेसी नेता अब गुलाबी नोटों के दम पर नगर पालिका के चुनाव लडवाने की बात कर रिया है... भियां जैसा दोस्त वैसा नेता नोटों की हरियाली के सामने किसी को भी दगा दे सकता है..... चाहे वह उसकी दाना पानी देने वाली पार्टी क्यों न हो।
    तो भिंया कातिया के खासम-खास नेता इन दिनों पेराशुट से आई नेता को नपा चुनाव लडवाने की तैयारी कर रिये है...... जिसके साथ न तो जन है और न ही जनाधार..... है तो सिर्फ पेराशुट में लाए हुए बंगलो और अन्य उपहार.... भियां चैराहों की चर्चा बता री है कि कातिया के खासम-खास नेता को इन दिनों पेराशुट से आई नेता गांव में बंगलो के साथ साथ शहर में स्थित बगलों के उपर एक ओर इमारत खडी कर री है... और  भियां चर्चा तो ये भी है कि खदानों में भी नेताजी भागीदारी रहेगी.....। 
    अब भियां अंदर ही अंदर नगर पालिका चुनाव लडने के लिए टिकट का तो फैसला हो गिया..... लेकिन अब कार्यकर्ताओं को कैसे चुप रखना.... तो भियां नेताजी ने कातिया की तरह दिमाग घुमाया और पर्वेक्षक के रूप में उपचुनाव जीते नेता को बुला डाला.... ताकि अपना खेल का कार्यकर्ताओं को पता न चले..... भियां उपचुनाव जीते नेता ने कार्यकर्ताओं की जैसे ही कलाश ली..... वो बताने लग गिये की मैने जब चुनाव लडा... , तब कहां कहां कितने पैसे लग गिये  और फिर आ गिये मुददे की बता पर.....  नेताजी ने साफ साफ कह दिया। ..... जिनके पास ढेड से दो करोड रूपए होगे वो ही चुनाव लड सकता है....।
              अब बात रूपयों पर आने के बाद वो  दावेदारों को कहने लग गिये की तुम्हे इतना कोई नही जानता और तुम्हार छवि ठिक नही है.....  और शट से पेराशुट से आई नेता को विशेष जनाधार वाला प्रत्याशी बना डाला .......  और जाते जाते साफ साफ ये भी  के गिये जिसके पास होगी नोटो की हरियाली..... वो ही मार पाएगा नगर पालिका में बाजी..........।
    अब बात ये हो गई कि नाचे कुदे वांदरा और खीर खाए फाकिर.... तो क्या भियां सालों से कांग्रेस का झंडा उठा रहे कार्यकर्ताओं की मेहनत जब रंग ला री है..... तो अब पेराशुट से आई नेता को कातिया के खासम खास नेताजी ने तरह तरह के उपहारों के खारित एक बार फिर कार्यकर्ताओं के सपनों पर पानी फेर डाला....
    तो भिंया अब मैं चलता हुं... लेकिन एक बात ओर बता दुं.....  भियां नेताजी केंगे कि  ये बात सारी झुठी है......  तो एक बात बता  दे रिया हुं, ये पब्लीक है भियां सब जानती है.......  भिया  अपने आप को सरकार का अभिषेक बच्चन समझने वाले आपके पुत्र के साथ.........  गणेश पांडालों और अन्य कार्याक्रमों में ये पेराशुट नेता काफी समय से नजर आ री है..... न  की कर्मठ कार्यकर्ता   और भियां एक बात तो ये भी है इस पेराशुट नेता का पुत्र भी कोई कददावर नेता नही है जिसकी नगर में पेठ हो......। तो भिंया अचानक से इतना स्नेह  क्यों ?
     तो भियां अब मैं चलता हुं.......  बताने को तो बहुत है..... पर समय नहीं हैं.........  जय राम जी की........ 

    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY