• Breaking News

    Thursday, March 2, 2017

    ताई....ताई संभल कर जमाना महेशजी की झांकी........ कही आप न बन जाना बाबा रामदेव और प्रणव पाण्डेय की तरह

    लो भियां में फिर आ गिया.... इस बार भियां शिवजी के हलमें में शामिल होने का बडा ही मन कर रिया है... लेकिन भियां इस हलमें में शामिल होने की इच्छी दब जाती है.... जब हलमा प्रमुख महेश का रूख विगत हलमें देख रिये थे... भियां जब हलमें का समापन होने लग गिया.... तो भियां हम भी महेशजी को सुनने बैठ गिये....महेशजी के हाथों में माईक आते ही लग गिया कि अब ज्ञान रस टपकेगा.... ।
    लेकिन ये क्या हलमें से उत्साहित महेशजी ने मीडिया से लेकर मेहमानों तक के कान खिंचने में कोई कसर बाकि नी रखी.... इतना ही नही जिस प्रकार से शब्दों का उपयोग  कर रिये थे.... उसमें अभिमान साफ झलग रिया था...।
    भियां महेशजी हलमें में बुलाते तो प्यार से हैं... लेकिन काम निकालते ही लात माने में भी देर नही कर रिये होते है....इसी झांकी बाजी के चलते कभी रामदेव और कभी गायत्री परिवार के डाॅक्टर प्रणव पाण्डेय तक को इस हलमें के लिए बुलाया गिया... देश  की ये दोनों दुरंधर हस्तियां महेशजी की झांकी उस प्रकार नही जमा पाये.... जिस प्रकार से महेशजी चाह रिये थे...वैसा नहीं हो रिया था ......  तो मीडिया पर भी गांव गांव के कवरेज को प्रसारित नही करने की बात कर रिये थे....
    2016 के कार्यक्रम में पूर्व आयोजित प्रेसवार्ता में तो मीडिया की खुब सराहना की..... मगर कार्यक्रम समाप्ती के पूर्व महेशजी के हाथों मंें ज्ञानरस बरसाने के लिए जैसे ही माईक आ गिया....।  उन्होने रामदेव बाबा के लिए साफ तौर पर कह दिया कि बाबा रामदेव अगर योग करवाते है तो शिवगंगा परिसर का  कुत्ता भी योग करने नहीं जायेगा .... भियां और तो और डाॅक्टर प्रणव पाण्डेय के बारे में कहा कि वे भी उनकी उम्मीद पर खरे नही उतरें.... यहां तक बात थमने वाली नी री थी भियां मीडिया को कहने लग गिये.... मीडिया तो चकाचैंध भरी खबरे करता है.... यहां भी है तो आ गिया... ऐसे कई कटाक्ष महेशजी के अभिमान भरे ज्ञान रस बरस रिये थे।
    भियां इस बार फिर हलमा है और मीडियों को काॅलेज ग्राउड गिठा कर खुब चाय की चुस्कियों में डुबोया गिया... ताकि वो पुराने जख्म भूल कर फिर से महेशजी की झांकी मडप को लोकसभा अध्यक्ष के सामने निखारे....।
    ताई आप भी सावधान रहना...
    इस बार देश की लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन हमले में आ री हैं.... महेशजी और हमलें की झांकी देखने..... लेकिन ताई आप भी बाबा रामदेव, प्रणव पाण्डेय और झाबुआ की मीडिया की तरह महेशजी की इच्छा अनुरूप झांकी नही बना पाई..... तो हो सकता है.... ताई आपको भी बाबा रामदेव के यहां कुत्ता भी नही जाता वाली कहावत सुनने को मिले... इसलिए ताई आप पहले ही महेशजी से किसी प्रकार की झांकी जमाना है... की योजना बना इस हलमें में पधारियेगा..... ताकि ताई हमें झाबुआ में बाबा रामदेव के कुत्ते वाली कहावत नही सुनना पडे...आगे आपकी मर्जी....
    हम तो पहले बाबा रामदेव की वजह से और अब आपकी वजह से हलमें का हलवा खाने आयेगे .... अब जा रिया... हलमें में हलवा खाने की तैयारी कर रिया हुं... जय रामजी की.....। 

    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY