• Breaking News

    Friday, April 14, 2017

    ..... भक्तिभाव से मनाया गुडफ्राइडे.....


     हे पिता मैं अपनी आत्मा तुझे सौंपता हुं.... हे पिता इन्हे क्षमा कर आदि वचनों के साथ पवित्र शुक्रवार गुड फ्राईडे की पवित्र धर्म विधी संपन्न हुई। दोपहर 1 बजे प्रभु येसु के पवित्र क्रुस मार्ग की याद में जिले भर के सभी गिरजाघरों में क्रुस मार्ग किया गया। डाॅ. बिशप बसील भूरियाजी ने उत्तम उदाहरण प्रस्तुत करते हुए स्वय अपने कंधे पर कु्रस रखते हुए क्रुस मार्ग शुरू किया। उन्होने बताया कि जैसे हमारे प्रभु येसु ख्रीस्त ने क्रुस उठाकर दुसरों के पापों के लिए प्रायश्चित किया उसी प्रकार हम भी अपने क्रुस को उठाए और प्रायश्चित करे और एक दुसरों को क्षमा प्रदान करें। आज जब सारा समाज आगे बढने की लालसा में अपने आस पास के मनुष्यों को नीचा गिराते जा रहा हैं आगे बढने होड में वह मनुष्य को मनुष्य ही नही समझ रहा बल्कि उसका शोषण करते हुए स्वयं अपनी राह बना रहा है। हम सभी ख्रीस्तीयों का यह धार्मिक कर्तव्य है कि हम सभी मनुष्यों को अपने समान प्रेम करें। 

     शांति व प्रेम के प्रतिक प्रभु येसु मसीह के प्राणों के त्याग का पर्व गुड फ्राईडे दोपहर तडके स्थानीय न्यू केथोलिक मिशन स्कूल अंग्रेजी माध्यम में दोपहर 1 बजे से क्रुस मार्ग का आरंभ हुआ, समाज के लोगों द्वारा अपने पापों को याद करते हुए, अपने पापों की क्षमा के लिए पूर्ण हृदय व घुटने टेक, आंखों में आंसु अपने पापों के लिए पश्चाताप किया। येसु मसीह बेगुनाह होते हुए भी क्रुस पर चढाए गए। 
    क्रुस यात्रा पहले विश्राम से चोदहवें विश्राम तक समाज के अनुयायियों ने प्रभु येसु का क्रुस उठाया व प्रार्थना की और उस समय को याद किया जैसा ईसा मसीह ने अपनी क्रुस यात्रा के दौरान किया था और कलवारी पहाडी की ओर बढे थे। पुरे समाज ने इस यात्रा के दौरान नतमस्तक होकर क्रुस यात्रा में भाग लिया। प्रभु येसु को कोडों की मार, कांटों का मुकूट, क्रुस का भार, बार बार यात्रा के दौरान गिरना, उन पर थुंका जाना, अपशब्द कहा जाना आदि यातनाए येसु ने निर्दोष होते हुए मनुष्य के लिए सही। उक्त बातें इन चोदह विश्रामों में बडें विस्तार के साथ बताई गई। मनुष्यों को अपने पापों का प्रायश्चित अपने जीवन में ही कर लेना चाहिए। कु्रस यात्रा का आरंभ अलग अलग दलों द्वारा किया गया। 
    विश्व शांति के लिए की प्रार्थना
    दिव्य करूणा की विनती माला द्वारा फादर पीटर खराडी की अगुवाई में समाजजनों द्वारा विश्व शांति के लिए प्रार्थना की गई। पोप फ्रांसीस ने इस वर्ष आव्हान किया है कि हम सभी लोग विश्व में भाईचारे एवं शांति के लिए निरंतर प्रार्थना करते रहे। 
    पवित्र धर्म विधी
    डायोसिस पीआरओ फादर राॅकी शाह ने बताया कि गुड फ्राईडे की पवित्र धर्म विधी में मुख्य रूप से चार भागों में बटी होती है। पहला वचन की घोषणा जिसमें पवित्र बाईबिल से पाठ पढे जाते है और प्रभु येसु ख्रीस्त के दुखभोग की गाथा का वर्णन सुसमाचार से किया जाता है। दुसरेे भाग में महाप्रार्थना का अनुष्ठान किया जाता है। इसमें संपूर्ण विश्व के लिए राजनैतिक, सामाजिक, एवं धार्मिक उददेश्यों की प्राप्ती के लिए, मानव एकता, परस्पर प्रेम एवं क्षमाशीलता सर्वोपरी होती है। तीसरे भाग में प्रभु येसु के क्रुस की उपासना की जाती है और अंत में परमप्रसाद का वितरण किया जाता है। 
    किया कडवें पानी का वितरित 
    पवित्र धर्म विधि के  पश्चात इसाई समुदाय के लोगों द्वारा कडवें पानी का सेवन कर धार्मिक लाभ लिया गया।  कडवें पानी की व्यवस्था पल्ली परिषद के  द्वारा की गई। 

    इनका था सहयोग
    पुरोहित, सिस्टर्स, पल्ली परिषद के सदस्यों के साथ साथ युवाओं में विशेष रूप से निर्मल भूरिया, धीरज मकवाना, रोहित डामोर, रोहित जाजोरा, विकास डामोर, बादल डामोर, मनोज डामोर, राहुल डामोर, ़राहुल मेडा, अखिल भूरिया रिषभ भूरिया का विषेश सहयोग रहा। नगर पालिका अध्यक्ष धनसिंह बारिया द्वारा धर्मावलंबियों के लिए जल की व्यवस्था की गई एवं क्रुस मार्ग मार्ग में भाग लेकर धर्मलाभ लिया। उक्त जानकारी समाज के निकलेश डामोर ने दी। 

    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY