• Breaking News

    Tuesday, April 25, 2017

    मानवता के संत जयंत सेन सुरिश्वर जी को दी गयी श्रद्धांजलि



    पारा। संस्कृति,धर्म  और सर्वधर्म समभाव का बोध कराने वाले ही सच्चे संत होते है और प्राणी मात्र के उत्थान में ऐसे ही युग पुरुष का जीवन में  होना उतना ही अहम है जितना बेटे के लिए माँ का होना। ये विचार  वक्ताओं ने सोमवार को आयोजित एक सामूहिक श्रद्धांजलि समारोह में रखे । विदित है कि त्रिस्तुतिक गच्छ नायक राष्ट्रसंत और लोकसंत  की उपाधि से सुशोभित  जैनाचार्य श्रीमद विजय जयंतसेन सूरीश्वर जी मासा का विगत दिनों भांडवपुर तीर्थ (राजस्थान)में कालधर्म हो गया था। आचार्यश्री के देवलोकगमन के बाद पूरे नगर में शोक सा माहौल छा गया । सोमवार को सामाजिक संस्था श्री जागृति मित्र मंडल द्वारा स्थानीय बस स्टेंड पर एक सर्वधर्म सामूहिक श्रद्धांजलि का आयोजन किया गया । सभा के शुभारंभ में नगर सभी वरिष्ठजनों ने आचार्यश्री के चित्र पर दिप प्रज्ज्वलन किया। वक्ताओं में मनोहर छाजेड़,अमृत राठौड़,पत्रकार अमृतलाल जैन,बुरहान भाई बोहरा,सलेल पठान,राजेंद्र कोठारी,आशीष कोठारी विभाष ए.जैन, पन्च शुभम सोनी आदि ने आचार्यश्री को याद किया और गुरुदेव से जुडी बांतों का उल्लेख किया । समारोह में पत्रकार श्री जैन ने गुरुदेव के जीवन चित्रण और पारा नगर पर असीम स्नेह के बारे में बताया ,अमृत राठौड़ ने कहा कि गुरुदेव्  का पारा पर प्यार बरसता रहा है और ईसी कारण पारा आज यहां है,बोहरा समाज से
     बूरहान भाई ने बताया कि वे केवल जैन संत नही थे अपितु मानवता के संत थे वे जब जब भी पारा आये उनका आशीर्वाद हमें हमेशा मिला।मुस्लिम समाज के सदर सलेल पठान ने अपने अनुभव साझा करते कहा कि सन 1986 के वर्षावास में पिता अकरम पठान के साथ गुरूजी के प्रवचनों का श्रवण किया और उनको अपने जीवन में उतारने का प्रयास किया,और आज भी गुरूजी की कही कई बांते जो में अपने दैनिक जीवन में उपयोग करता हु।श्री संघ के मनोहर छाजेड़ और राजेंद्र कोठारी ने भी आचार्यश्री के बारे में बताया और  पारावसी की आचार्यश्री ह्रदय में जगह होने का उल्लेख किया। युवा शुभम सोनी ने भी सवर्णकार समाज की और से
     गुरुदेव को भावांजलि अर्पित की । विभाष ए.जैन ने (भटकते को सहारा था मधुकर एक किनारा था ) मुक्तक के  माध्यम से गुरुदेव का अपने जीवन महत्त्व बताया । आशीष कोठरी ने भी एक बिदाई गीत से गुरुदेव को याद किया । श्रद्धांजलि सभा के बाद उपस्तिथ समग्र समाज के नागरिकों ने गुरुदेव के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की ।इस अवसर पर नगर वासुदेव शर्मा,गोपाल प्रजापत,रमेश भाई राठौड़,अमृत भाई शेतन,बिहारी सिंह डोडिया, रमनलाल जी पांचाल,लाखन सिंह राजपूत,महेंद्रसिंह चौहान,रविंद्र कदम,जीतेन्द्र सोनी,विनोद परमार,नटवर पांचाल सहित कई नागरिक उपस्तिथ थे। श्रद्धांजलि सभा का सफल संचालन शाहवेज खान ने किया साथ ही श्री खान ने गुरुदेव के साथ के अनुभव बांटे। पश्चात जागृति मित्र मंडल द्वारा सभी नागरिकों का आभार व्यक्त किया गया । 


    No comments:

    Post a Comment

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY