• Trending

    Wednesday, January 10, 2018

    प्रशासन का हो रहा है भगवाकरण ...... ग्रामीण खा रहे है दर-दर की ठोकरें


    झाबुआ। भारत देश गांवों में बसता है तथा गांव के विकास से ही देश का विकास संभव है। आजादी के बाद कांग्रेसनीत सरकार ने हमेशा प्राथमिकता के आधार पर विकास हेतु छोटे-छोटे गांवों में अनेक विकासशील योजनाएं क्रियान्वित कर गांवों के विकास के लिए कदम उठाए है। तत्कालिन मध्यप्रदेश सरकार ने भी पंचायतीराज लागु कर ग्रामों के सरपंचों को गांवों के विकास के लिए अधिकार दिए थे किंतु जब से भाजपा की सरकार मध्यप्रदेश में काबिज हुई तब से ग्रामों का विकास रूक सा गया है तथा पंचायतों के अधिकार भी छीन लिए गए हैं गांवों में विकास के नाम पर बिल्कुल भी पैसा नहीं आ रहा है। केवल कागजी कार्यवाही की जा रही है रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत कई मजदुरों को तो उनकी बकाया राशि भी नहीं प्राप्त हुई है तथा कई कर्मचारियों को भी मेहनत का वेतन नहीं प्राप्त हो रही है। ग्रामों के विकास के लिए ग्रामीणजन एवं जनप्रतिनिधिगण दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है किंतु सरकार गांव के प्रति पूर्ण रूप से उदासीन हो चुकी है। एक तरह से मध्यप्रदेश में काबिज भाजपा सरकार के जनविरोधीनीतियों के कारण मध्यप्रदेश का खजाना पूरी तरह खाली हो चुका है तथा दिवालियेपन की कगार पर है। उक्त आरोप जिला पंचायत अध्यक्ष सुश्री कलावती भूरिया, जिला पंचायत उपाध्यक्ष चंद्रवीरसिंह राठौर, जिला पंचायत सदस्य रूपसिंह डामोर, अकमाल सिंह डामोर, शांता तेरसिंह, शारदा भाबोर, कलावती गेहलोद, जनपद अध्यक्ष सुश्री गीता शंकर सिंह भूरिया, गीता हेमचंद्र डामोर सहित सरपंचगणों ने संयुक्त  विज्ञप्ति जारी कर लगाया। सुश्री भूरिया ने कहा कि मध्यप्रदेश का शासन पूरी तरह भगवा  रंग चुका है। झाबुआ जिले के जिलाधीश महोदय सहित जिले के पदाधिकारी भी गांवों में डेरा डालकर भाजपा नेताओं के साथ पार्टी मनाने एवं भाजपा के पक्ष में प्रचार कर भाजपा शासन में अपनी टीआरपी बड़ाने हेतु प्रयास कर रहें है। संविधान में सरकारी कर्मचारियों को पूरी तरह से निष्पक्ष होकर जनता के विकास हेतु कार्य करने के निर्देश है किंतु भाजपा के शासन में इसका बिल्कु्ल भी पालन नहीं किया जा रहा है। जहां भाजपा के चाटुकार नेताओं एवं दलालों की मनमानी चल रही है वहीं अन्य पार्टी के समर्थित जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा की जा रही है। मध्यप्रदेश की जनता अच्छी तरह जान चुकी है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता केवल कागजों पर ग्रामीण क्षेत्रों का विकास दिखा रहे हैं जबकि हकीकत कुछ ओर ही है। सुश्री भूरिया ने जिला प्रशसन को आगाह किया कि अब भी वक्त है कि वे भाजपा नेताओं के चंगुल से मुक्त होकर निस्पक्ष तरीके से क्षेत्र के विकास में संयोग करे अन्यथा कांग्रेस मजबुर होकर शासकीय कर्मचारियों के विरूद्ध आंदोलन कर उन्हें बेनकाब करने में भी नहीं हिचकेगी।

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY