• Trending

    Tuesday, March 27, 2018

    फुटतालाब में कवि सम्मेलन कल .... भोगी हमेशा रोगी हो जाता हैं और योगी सुखी हों जाता हैं.... दुनिया में माँ सें बढ़कर कुछ नही हैं...... विश्व में भारत जैसी संस्कृति नही हैं - श्री सुधाकर जी महाराज




    मेघनगर। श्री वनेश्वर मारुति नंदन हनुमान मंदिर फुटतालाब में चल रही  श्रीमद भागवत कथा केँ तीसरे दिन  श्री सुधाकर जी नेँ जीवन में माँ केँ महत्व कों बहुत भावुक स्वरूप में भजन तु कितनी अच्छी हैं कितनी भोली हैं केँ माध्यम से माँ यशोदा और श्रीकृष्ण और कई उदाहरणों केँ माध्यम सें प्रस्तुत किया , उन्होनें कहा कि जीवन में माँ सें बढ़कर कुछ नही हैं स  उन्होंने कहा कि सभी बहुओं कों अपनी सास कों मम्मी जी केँ स्थान पर मम्मी ही कहना चाहिए और सभी सासो कों भी अपनी बहुओं कों बेटी कहना चाहिए इससे जीवन में सुख बना रहता हैं स बेटी जैसा प्यार अपनी बहुओं सें करें और बहुएं भी अपनी माँ जैसा प्यार अपनी सास सें करें स उन्होनें कहा कि भोगी हमेशा रोगी हो जाता हैं और योगी सुखी हों जाता हैं , इसलिये मनुष्य को योगी होना चाहियें , पूरे भाव केँ साथ भगवान को भोग लगाएँ , भगवान सिर्फ भाव केँ भूखे हैं स इसलिये पूरें भाव केँ साथ श्रीठाकुर जी की भक्ति करना चाहिएं स दुख आएं तो घबराना नही चाहियें सुख आये तो भगवान को नही भूलना चाहिएं स हर परिस्थिति में भगवान का स्मरण करना चाहिए .

      दुनिया में भारत जैसी संस्कृति कही नही हैं।  अपनी संस्कृति को हमें नही छोड़ना चाहिए  .  आजकल लोग भगवान को कम इंसानों की  ज्यादा पूजा कर रहें हैं   युवा संत नेँ श्रीमद भागवत कथा केँ दौरान कहा कि जिस घर में मंदिर नही होता , भगवान की मूर्ति नही होती ,पूजा पाठ भजन कीर्तन नही होता उस घर में भूतों का वास होता हैं , उन्होनें ये भी कहा कि  दुनिया में तीन हजार संप्रदाय हों गयें , लोग शुद्ध सनातन धर्म सें दूर होनें लग गए हैं , हम गुरु तक सीमित रह गए , लेकिन गुरु केँ द्वारा बताएं गयें परमात्मा केँ मार्ग पर नही पहुँच पाएं , हम गुरु को मानतें हैं , गुरु केँ कहें कों नही मानतें स हमारें पास शास्त्र पढनें की फुर्सत नही हैं स हमें निस्वार्थ  भाव सें  भजन और भक्ति करना चाहिये , भगवान सें कभी कुछ नही माँगना चाहियें।  सिर्फ संपत्ति सें सुख नही मिलता , भगवान की कृपा सें बड़ी कों संपत्ति नही हैं।   राजनीति में दल बदलतें हैं लेकिन धर्मनीति में सिर्फ विचार अर्थात  श्रेष्ठ विचारों का आदान प्रदान होता हैं।   श्रीमद भागवत कथा केँ तीसरे दिन विशेष रूप से  क्षेत्रीय विधायक कलसिंह भाबर भी कथा में पहुँचें और युवा संत श्री सुधाकर जी का अभिनंदन किया।  मंच पर श्री 1008 रामदास जी त्यागी टाटवाले बाबा , मंदिर केँ महंत श्री मुकेशदास जी महाराज , बिट्ठल प्रसाद जी शर्मा , थांदला केँ श्री चिंतामणि जी महाराज भी उपस्थित थे। 


    फुटतालाब में कवि सम्मेलन आज

    श्री वनेश्वर मारुति नंदन हनुमान मंदिर फुटतालाब पर आज अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन रात 8 बजें होंगा , जिसमें बड़े कवि सत्यनारायण सत्तन, जगदीश सोलंकी , हरिओम पंवार ,धमचक मुल्तानी , मुन्ना बैटरी , कवयित्री डॉ अनुसपन, निसार पठान काव्य पाठ करेंगें।  प्रदेश केँ वरिष्ठ समाजसेवी श्री सुरेशचंद्र पूरणमल जैन , वरिष्ठ समाज सेवी ब्रजेन्द्र चुन्नू शर्मा , युवा सेवा केँ पर्याय  रिंकू जैन ,जैकी जैन , फुटतालाब केँ युवा सरपंच बहादुर भाई , चुन्नू भैया मित्र मंडल केँ सभी सदस्यों नेँ ,  और पप्पू भैया मित्र मंडल केँ वरिष्ठ सदस्य हरिराम गिरधानी , आनंदीलाल पडियार , दिनेश बैरागी , सुभाष गेहलोत , देवेंद्र जैन , विकास बाफना  नेँ नगर,  जिलें और प्रदेशवासियों सें कवि सम्मेलन में आने का आग्रह किया हैं। 


    बाल लीलाओं नेँ करायें श्रीकृष्ण दर्शन 

    श्री वनेश्वर मारुति नंदन पर प्रतिदिन देर शाम चल रहें राष्ट्रीय स्तर केँ धार्मिक कार्यक्रमों में श्रीकृष्ण की माखन चोरी की नटखट बाल लीलाओं की मनमोहक और गोकुल , नंदगाँव का स्मरण कराती लीलाओं नेँ उपस्थित श्रद्धालुओं को माँ यशोदा और श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं केँ जीवंत दर्शन करायें स बृज भूमि वृंदावन सें श्रीबृज राज रासेश्वरी लीला संस्थान श्रीधाम वृंदावन केँ कलाकारों द्वारा संस्थान केँ श्री निरंजन लाल व्यास केँ निर्देशन और उनकी वरिष्ठ भजन गायकों की मंडली नेँ बृज केँ रास केँ भजनों को गाकर और अभिनय कर बृज भूमि केँ महत्व और श्रीराधेकृष्ण केँ मिलन और उनकी माँ यशोदा केँ साथ कि गयी बाल लीलाओं का मन कों लंबे समय तक स्मरण जैसा सवश्रेष्ठ चित्रण कर भोलेनाथ केँ श्रीकृष्ण को देखनें आने केँ दृश्यों कों भी प्रस्तुत किया। 

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY