• Trending

    Wednesday, April 11, 2018

    नगर पालिका के आदेशों की उडाई जा रही है धज्जियां ...........हेण्डपम्प हुआ गायब ......... दुर्घटना को न्यौता देती निर्माणाधिन नाले पर लगी गुमटियां........


     शहर का वार्ड नम्बर 18 इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ हु। गुमटियां लगाने के हुए विवाद के बाद कुछ दुकानदारों ने अपनी मनमानी के चलते निर्माणाधिन नाले पर फर्शी लगा कर गुमटियां तान दी। जो कभी भी किसी भी बडी दुर्घटना को न्यौता दे सकती है। हालांकि दुकानदारों ने दुकाने चालु नही की लेकिन पार्षद की मनमानी के चलते स्वयं की चाय की गुमटी लगा दी। हालांकि नाले पर हुए अतिक्रम को लेकर नगर पालिका द्वारा दुकानदारों को निर्माणाधिन नाले को क्षति पहुंचाने को लेकर नोटिस भी जारी किया जा चुका है।  
    निर्माणाधिन नाले पर तान दी गुमटियां
    अभी तो नाले का निर्माण कार्य ही चल रहा है। और अभी नाले का बेस भी मजबुत नही है। ऐसे में पार्षद और दुकानदारों के आपसी मतभेद के चलते बिना सुरक्षा का ध्यान रखते हुए। दुकानदारों ने नाले पर लाल फर्शी रख अपनी अपनी गुमटियां तान दी। दुकादारों द्वारा निर्माणाधिन नाले पर बिना बेस फर्श तो रख दी। जो इतनी मजबुत नही है कि इन गुमटियों का वनज उठा सके। इन फर्शियों पर अगर थोडा सा भी दबाव पडेगा । तत्काल वो टुट जायेंगी। जिससे कभी भी बडी दुर्घटना भी हो सकती है।अगर थोडा सा भी उस पर दबाव पडा तो फर्शी टुट जायेगी। जिससे बडी दुर्घटना होने की संभावना हो सकती है। सुत्रों की माने तो नपा सीएमओ और पार्षद आपसी सांठगाठ के चलते नपा के निर्माणाधिन नाले पर दुकाने तान दी।

    नपा से जारी हुआ नोटिस
    निर्माणाधिन नाले पर हुए अतिक्रमण के संबंध में जैसे ही नगर पालिका परिषद अध्यक्ष श्रीमती मनु डोडियार को जानकारी मिली उन्होने तुरंत सीएमओ को निर्देशित करते हुए नगर पालिका की निर्माणाधिन संपत्ति पर अतिक्रमण करने को लेकर नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। जिसके चलते निर्माणाधिन नाले पर गुमटियां लगाने वालों को नपा द्वारा दुकाने हटाने एवं नपा की संपत्ति को क्षति पहुंचाने को लेकर नोटिस दिए गए। लेकिन न तो पार्षद और न ही दुकादारों को नोटीस को लेकर फर्क पडा। ऐसे मंे अगर कोई बडी दुर्घटना हो जाती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा?
    हेडपंप हुआ अचानक गायब
    नगर पालिका परिषद द्वारा  मंदिर के समीप एक हेंडपंप उत्खनन करवाया था। जिस पर नपा ने मोटर भी लगाई थी ताकि आस पास के लोगो और आने जाने वाले राहगिरों को पानी मिल सके। मगर नगर पालिका सीएमओ की अनदेखी के चलते कुछ निजी लोगों द्वारा उस पर कब्जा कर लिया गया।
    पार्षद की मनमानी से लग गई दुकानें
    नगर पालिका द्वारा वार्ड क्रमांक 18 के रहवासियों की सुविधा के लिए उक्त नाले का निर्माण करवाया जा रहा है। ताकि बारिश के समय रहवासियों को होने वाली समस्याओं से निजाद मिल सके। लेकिन दुकानदारों और पार्षद की मनमानी के चलते निर्माणाधिन नाले पर ही गुमटियां तान दी गई। वार्ड पार्षद का भी कर्तव्य है कि वह नाले का उचित निर्माण होने के बाद दुकादारों को नाले पर दुकान लगाने दे। पर ये क्या वार्ड पार्षद ने भी नपा के नियमों और निर्देशों का उल्लंघन करते हुए अपनी चाय की दुकान नाले पर तान शुरू कर दी। ।
    किराये पर चल रही है दुकाने
    उक्त स्थान पर कई लोगों ने चार से पांच दुकान लगा रखी है और इन दुकानों को वो किराये पर दे रहे है। ऐसे में जिन्हे जो गरीब तबके के लोग है जिन्हे यहां दुकान लगाने की आवश्यकता है उन्हे यहां पर दुकान लगाने ही नही दी जा रही है। ऐसे में नगर पालिका को जिनकी एक से अधिक दुकाने है उन्हे हटाकर जिन्हे दुकान लगाने की अत्यंत आवश्यकता है उसे सहायता करनी चाहिए।
    इनका कहना है-
    जब इस संबंध में वार्ड पार्षद से चर्चा की गई तो उन्होने कहा 15 दिनों से नाले पर तरी कर रहे है अब नाला मजबुत हो गया है..... ऐसे में दुकानदार दुकाने लगाते जा रहे है। बाद में फर्शी के नीचे एंगल रख फर्शी को मजबुती मिल जायेगी जिससे किसी भी प्रकार की दुर्घटना नही होगी।
    नरेन्द्र राठौरिया, वार्ड नं. 18, पार्षद।

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY