• Trending

    Thursday, April 12, 2018

    अवैध शराब की 4 गाडियां 2 में हुई तबदिल......... क्या इतना है राजनैतिक दबाव ............. आखिर शराब माफिया का गुर्गा मुकेश क्या कर रहा था रायपुरिया में.....


    झाबुआ। सत्ता के राज में इन दिनों शराब माफियाओं के हौसले इतने बुलंद है की गुजरात में अवैध शराब तस्करी के लिए अलग अलग रास्तों से इस गौरख धंधे को माफिया चला रहे है। गुरूवार के तडके रायपुरिया पुलिस ने शराब ठेके होने के बाद पहली बार अवैध शराब को पकडी गई। शराब किसकी है ये भी अभी तक पता नही चला। राजनैतिक रसुख के चलते इन दिनों जिले की पुरी कमान शराब माफिया अलकेश ने अपने हाथों में ले ली है और उसका साथ दे रहा है रमेश। ऐसे में गुरूवार के तडके पकडी गई शराब इनके अलावा किसकी हो सकती है। जिले में अवैध शराब तस्करी की पुरी कमान तो अलेकश  और  उसके साथी रमेश  की है ।  तो दुसरा कोन  यहाँ अवैध शराब  का कारोबार कर सकता है।  अब तो  यहाँ  दूसरा  माफिया  हाथ भी डाल  नहीं सकता। 
    सुत्रों की माने तो राजगढ से भर कर ये अवैध शराब सारंगी होते हुए रायपुरिया पहुंची। इन गाडियों के साथ एक अन्य गाडी में शराब माफिया अलकेश  का गुर्गा  मुकेश भी था जो इन गाडियों की रक्षा के लिए साथ चल रहा था। ये वही गुर्गा है जिसे गुजरात में अवैध शराब तस्करी करते समय पकड लिया गया था। जैसे ही शराब से भरी अवैध शराब से भरी गाडियां रायपुरिया पहुंच तो पुलिस गाडियों को रोक तलाशी ली तो उसमें अवैध शराब निकली। सुत्रों के अनुसार रायपुरिया पुलिस ने 4 अवैध शराब से भरी गाडियों को पकडा था। जिसमें एमपी 45 1180  व एक अन्य गाडी गायब है।  लेकिन राजनैतिक रसुख के चलते मुकेश ने पुलिस पर इतना दबाव बनाया कि पुलिस को दो गाडियां छोडनी पडी। मुकेश ने तो पुलिस को यह तक कह दिया इतनी बंदी हम किस बात की देते है। उपर से नीचे तक के अधिकारियों को पैसा बांटते है। इतना तो ठिक था मगर मुकेश ने खाकी वालों से इतनी अभद्रता की कि खाकी को भी शर्म आ गई। सुत्र तो ये भी बता रहे है कि रापुरिया पुलिस ने शराब माफिया की गाडी क्या पकड ली। उपर से लेकर नीचे तक का महकमा हिल गया। राजनैतिक तंत्र के साथ खाकी तंत्र भी आधी रात को जाग गए और शराब माफिया की जी हजुरी करने लगे। 
    रानैतिक रासुख
    सत्ताधारी होने के चलते इन दिनों झाबुआ जिला अवैध शराब तस्करी का केन्द्र बन गया है। आदिवासी बाहुल्य जिले को देश में शराब माफिया ने शराबी जिला बना घोषित कर दिया है। जबकि यहां के लोग शराबी नही है.... उनके नाम पर गुजरात राज्य में अवैध शराब तस्करी की जा रही है। वो भी सिर्फ इसलिए क्योंकि शराब माफियाओं के तंत्र सत्ताधारी नेताओं से है और ये सत्ताधारी नेता.... गाधीछापों के आगे नतमस्तक है। तभी तो न तो इन पर पुलिस कार्रवाई कर सकती है और न ही आबकारी पुरा का पुरा राजनैतिक तंत्र माफियाओं की जी हजुरी में लगा हुआ है।  

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY