• Breaking News

    Tuesday, August 7, 2018

    साहब...... सरपंच और रोजगार सहायक लाखों राशि कर गए हजम...... खडकुई में गिटटी खदान के आवंटन पर लागाई जाये रोक..... नही तो परिवार को भूखे मरने की आ जाएगी नौबत


                  
               झाबुआ। प्रदेश के मुखिया की जनहितैषी योजना जनसुनवाई में कलेक्टर आशीष सक्सेना ने कलेक्टर सभा कक्ष में जनों की सुनावाई की। जनसुनवाई में कलेक्टर के समक्ष जिले भर से  आए ग्रामीणों ने अपनी समस्या के निराकरण के लिए गुहार लगाई। ग्रामीणों की समस्या सुन कलेक्टर ने तत्काल निराकरण के लिए संबंधित विभाग को निर्देशित किया। 



    पहला मामला
                   रानापुर क्षेत्र के ग्राम जुनागांव के ग्रामीणों ने कलेक्टर से गुहार लगाते हुए बताया कि साहब....... हमारी पंचायत के सरपंच और रोजगार सहायक द्वारा लाखों रूपए के फर्जी बील लगा कर शासन की जनहितैशी योजना पर पलिता फेरा जा रहा है। सरपंच और रोजगार सहायक द्वारा जुनागांव के बामनिया फलिये  सीसी रोड के नाम पर 9 हजार के फर्जी बील लगाया। वहीं एक सीसी रोड जिसकी लागत  1 लाख 62 हजार 5 सौं रूपए है। जो न तो बनी है न ही किसी प्रकार का इस सीसी रोड के लिए सामग्री क्रय की गई। फिर भी सरपंच और रोजनार सहायक ने बिना निर्माण किए इस राशि के फर्जी बील लगा कर राशि का आहरण कर लिया।
    गांव के देवली फलिये में नाटकी तलाई वाले नाले पर पुलिया निर्माण होना था। जिसकी लागत  1 लाख 76 हजार 830 रूपए है। लेकिन आज दिनांक तक इस पुलिये का निर्माण नही किया गया। फिर भी सरपंच देवलसिंह व रोजगार सहायक भूरसिंग सिंगाड दोनों की मिली भगत के चलते फर्जी बील लगा कर इस राशि का भी आहरण कर लिया गया। साहब... आपसे निवेदन है कि इन निर्माण कार्यो की जांच कर संबंधित के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए। आवेदन सौपते समय राकेश महेश, राजु, विदेसिंह, कमलेश, विकास, राम आदि उपस्थित थे। 
    दुसरा मामला
               ग्राम पंचायत खडकुई के ग्रामीणों ने भी कलेक्टर आशीष सक्सेना से गुहार लगाते हुए बताया कि साहब.... आज से करीब 50 वर्ष पूर्व सिंचाई हेतु तालाब का निर्माण किये जाने से हमारी जमीन तालाब निर्माण के दौरान डुब में चली गई। जिसका शासन द्वारा मुआवजा काफी कम दिया गया था। जिसके चलते तात्कालीन कलेक्टर द्वारा हमे खेती के लिए शासकीय भूमि दी गई थी। तभी से हम उस भूमि पर काबिज हो खेती करते आ रहे हे। जिसका नियमित रूप से राजस्व अधिकारी को दंड भी भरा जाता है... लेकिन उस दंड की रसीद राजस्व अधिकारी द्वारा हमें कभी कभी ही दी जाती है। वर्तमान में हमारे द्वारा खेतों में मुंगफली, मक्का, जुआर, सोयाबीन, उडद आदि फसलें बो रखी है। जिसके लिए हमारें द्वारा काफी रूपए भी व्यय किए गए है। साहब हमारे पास उक्त खेतों के अलावा कृषि के लिए दुसरें कोई खेत नही है। लेकिन अब उक्त भूमी अब किसी व्यक्ति को गिटटी खदान के लिए पटटे पर दी जा रही है। साहब अगर उक्त भूमि गिटटी खदान के लिए दे दी गई तो हमें भुखे मरने की नौबत आ जायेगा। अतः साहब से निवेदन है कि उक्त स्थान पर गिटटी खदान देने की प्रक्रिया को निरस्त किया जाये। आवेदन सौंपने के लिए ग्राम खडकुई से रमेश पिता बुचा, रेवा पिता बहादुर, धुमा पिता बुचा, रायचंद पिता बुचा, नेवा पिता बुचा, भावसिंह, तोलिया, हुमला, लीमजी, पांगु, गुलाबसिंह , वालिया आदि उपस्थित थे।  
    ,

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY