• Trending

    Tuesday, September 11, 2018

    अमावस की काली रात को विधायकी की कुर्सी के लिए बलि चढ़ाकर की तांत्रिक क्रिया..... खनिज माफिया ने डिलक्स बाबा का दामन छोड कुख्यात बाबा का दामन थामा........ एक बार फिर खेलेंगे मुखिया की कुर्सी के लिए दाव



              लो भियां मैं फिर आ गिया... कुछ कही-अनकही के साथ... भियां विधान सभा चुनाव आ गिये है... टिकट की चाह में दावेदार अपने अपने भोपाली आका के चरण वंदन करने जा रिये है... या फिर जिले में आ रिये भोपाली का पल्लु थामें आगे पीछे घुम रिये है... लेकिन भियां थांदला विधानसभा का एक ऐसा दावेदार आकाओं की बाजाय... कुख्यात तांत्रिक पर विश्वास कर रिया है... बोले तो हर वो टोने टोटके कर रिया है... जो बाबा के रिये है... क्यों बाबा का हाथ अभी समाजसेवी खनिज माफिया ने थाम रखा है।

        भियां चौराहों की चर्चा है कि 7 तारिख को यानि शुकरवार को.... राजस्थान के कुख्यात तांत्रिक बाबा अंचल में आये... जिसे थांदला के फुलछाप पदााधिकारी...खनिज माफिया के यहां ले गिये... जहां कुर्सी की चाह करने वाला प्रत्याशी...खनिज माफिया और उसके साथी ने तंत्र-मंत्र करवाए... भियां कुर्सी के लिए अमावस की काली रात का दिन तय हुआ... इस काली रात में तांत्रिक क्रिया के लिए बली की व्यवस्था भी करनी थी...... ताकि कुसी हिला सके...। 
      
            भियां सुत्र बिता रिये थे... खनिज माफिया और उसके साथी को डिलक्स बाबा ने झांसे में लेकर करीब ढेड करोड की चंपत लगाई थी... ये वही डिलक्स बाबा है जिसने मुखिया की कुर्सी के लिए यज्ञ किया था... भिंया इस डिलक्स बाबा के चंगुल में फंसें खनिज माफिया का पुरा व्यवसाय ठप्प हो गिया था..... ऐसे में खनिज माफिया को राजस्थान के इस कुख्यात तांत्रिक ने साथ दिया... भियां सुत्र तो ये भी के रिये थे... खनिज माफिया के भाई को सबसे बडे नौकरी के घोटाले से इन्ही बाबा ने बचाया है... । तब से खनिज माफिया का बाबा से  चोली दामन का साथ है....... इसलिए माफिया के नेता आका एक बार फिर मुखिया की कुर्सी के लिए दाव खेल रिये......  

            भियां 7 तारिख को जब तांत्रिक बाबा आये... और सीधे खनिज माफिया के व्यवसायिक केन्द्र पर गिये... जहां कुर्सी के लिए तांत्रिक क्रिया करने का निर्णय हुआ... भियां विधायकी  कुर्सी की चाह रखने वाले ने जनमाष्टमी के दिन थांदला में  किसी से कुसी के लिए तांत्रिक क्रिया करवाई थी... अमावस की काली रात को  तांत्रिक बाबा के कहे अनुसार कुर्सी की चाह रखने वाला.... खनिज माफिया और उसके साथी ने बाबा के कहे अनुसार बली चढा कर अमावस की काली रात को कुर्सी के लिए तांत्रिक क्रिया की और भी तंत्र मंत्र हुए... अभी सब बिता दुंगा... तो आगे क्या बचेगा...।

             भियां अब जा रिया... लेकिन जाते जाते एक बात और बिता दुं..... कुर्सी किसी तांत्रिक क्रिया से नी मिलती... पहले भी मुखिया की कुर्सी के लिए की थी ...... तब डिलक्स बाबा  ढेड करोड चुना लगा गिये थे... कुर्सी की चाह रखने वाला भी कितना भी तंत्र मंत्र करवाले उसे टिकट नी मिलनी है... मुखिया के लिए जो ये कर रिये है... और कौन बडे नेता इसमें शामिल है... ये  भियां बाद में बिताउंगा.... अब जा रिया...... जय रामजी की। 


    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY