• Trending

    Saturday, December 8, 2018

    नगरपालिका की घोर लारपवाही आई सामने ............. न कनेक्शन... न पानी... फिर भी दे डाला बिल



     झाबुआ। जिला न्यायालय में नेशनल लोक अदालत में जहां लोगो के मामलो को सुलझााया जाता है वही शनिवार को हुई इस अदालत में स्थानिय लोगो को कुछ ज्यादा ही परेशानियां झेलनी पडी। वही कई ऐसे लोगो को भी लोक अदालत में कानूनी नोटिस देकर बुलवाया गया जिन्होने पूर्व में ही अपने बीलो का भुगतान कर दिया था। शहर के नई एवं पुरानी हाऊसिंग बोर्ड काॅलोनी में चैकाने वाला मामला सामने आया है। काॅलोनी के करीब 150 से अधिक रहवासियों को नगरपालिका की ओर से उनके घरों में लगे नल कनेक्शन में पानी नहीं आने एवं नल कनेक्शन कटवा दिए जाने के बावजूद हजारों रू. के बिल थमा दिए गए और यह बिल नेशनल लोक अदालत में नगरपालिका स्टाॅल पर भरने हेतु सूचना-पत्र भी जारी किए गए।
     जब शनिवार को दोपहर काॅलोनी के करीब 50 से अधिक रहवासी सूचना-पत्र प्राप्त होने के बाद लोक अदालत में नपा के लगे स्टाॅल पर पहुंचे और उन्हें हजारों रू. के बिल किस वजह से जारी किए, इसका कारण स्टाॅल पर बैठे नपा कर्मचारियों से पूछा, तो कर्मचारी संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। जिसके बाद यहां रहवासियों ने अपना तीव्र आक्रोष जताया। विरोध बढ़ता देख जब कर्मचारियों ने मौके से नपा सीएमओ को मोबाईल पर सूचना देना चाही गई, तो सीएमओ द्वारा मोबाईल रिसीव करना ही उचित नहीं समझा गया। काफी देर बाद सीएमओ श्री निगवाल भी पहुंचे और उन्होंने दोनो काॅलोनी से आए रहवासियों को जल कनेक्शन के बिलों के निराकरण हेतु 19 दिसंबर को काॅलोनी में केंप लगाने की बात कहीं, तब जाकर रहवासियों का आक्रोश थमा। 
    पूरा मामला इस प्रकार है कि 8 दिसंबर, शनिवार को नेशनल लोक अदालत होने से नगरपालिका कार्यालय की ओर से स्टाॅल लगाकर संपत्ति कर एवं जल कर की वसूली की जाती है। इसी के मार्फत नगरपालिका ने शुक्रवार को ताबड़तोब उपभोक्ताओं को बिना पूर्व सूचना या जानकारी देते हुए सीधे नेशनल लोक अदालत के माध्यम से शहर में करीब 220 लोगों को पेष होकर जल कर भरने हेतु निर्देषित किया। इसमें न्यू हाऊसिंग बोर्ड एवं पुरानी हाऊसिंग बोर्ड काॅलोनी के भी करीब 150 से अधिक रहवासियों को यह सूचना पत्र जारी हुआ।
    हजारांे के बिल देखकर फूटा आक्रोष
    जब दोनो काॅलोनी के करीब 50 से अधिक रहवासी शनिवार को लोक अदालत में नपा के स्टाॅल पर पहुंचे और वहां जल एवं संपत्ति कर जमा कर रहे कर्मचारियों से बात की और उनमें उनका नल कनेक्षन में पानी नहीं आने तथा कई रहवासियों द्वारा नल कनेक्षन कटा होने के बाद भी 25-35 हजार रू. तक के जल बिल आने का कारण पूछा तो नपा के कर्मचारी इस बात का ठीक ढंग से जवाब नहीं दे पाए, उनके अनुसार नपा सीएमओ के निर्देष पर सूचना-पत्र जारी कर बिल भरने संबंधी सभी रहवासियों से कहा गया है। जब रहवासियों ने नपा सीएमओ को मौके पर बुलवाने हेतु कहा और कर्मचारियों ने मौके से ही नपा सीएमओ एमआर निंगवाल को मोबाईल पर संपर्क किया, तो सीएमओ ने मोबाईल रीसिव नहीं किया। मौके पर जवाबदार अधिकारी से चर्चा नहीं हो पाने से नई एवं पुरानी हाऊसिंग बोर्ड काॅलोनी से आए करीब 50 से अधिक रहवासी, जिसमें पुरूष के साथ महिलाएं भी शामिल थी, उन्होंने अपना तीव्र विरोध प्रकट करना शुरू कर दिया। इस दौरान हाऊसिंग बोर्ड रहवासी समिति के अध्यक्ष गोपालसिंह पंवार, वरिष्ठ नागरिक विजय नायर, नंदकिषोर सोनी, मणिलाल पडियार, भेरूसिंह चैहान तरंग, रतनसिंह राठौर, सतीषचन्द्र मसानिया, महिलाओं में मोहिनी गिधवानी, श्रीमती अनिता जाखड़, हेमलता गेहलोत आदि के साथ उपस्थित सभी रहवासियों ने बताया कि नई एवं पुरानी हाऊसिंग बोर्ड काॅलोनी को जब से हाऊसिंग बोर्ड समिति द्वारा नगरपालिको को हस्तांतरित किया गया है, तब से यहां पानी की समस्या बनी हुई है। दोनो ही काॅलोनी में नल कनेक्षन तो है, लेकिन नलों में सप्ताह में एक बार भी पानी नहीं आता है। इसके चलते ही कई रहवासियों ने बेवजह नपा की अेार से लगातार जल कर का बिल जारी करने के कारण नल कनेक्षन कटवा दिया। 
    25-35 हजार रू. तक के बिल थमाएं
    इस दौरान उक्त रहवासियों ने आक्रोष स्वरूप बताया कि नल कनेक्षन कटवाने एवं नलों में पानी नहीं आने के बाद भी नपा द्वारा उन्हें 20 हजार रू. से लेकर 35 हजार रू. तक के बिल दिए गए है। इन बिलों एवं उन्हें बिल भरने के जारी सूचना पत्र में यह बिल किस माह एवं किस वर्ष से लेकर अभी तक के है, इसका भी कोई उल्लेख नहीं किया गया है, केवल नपा ने अपनी मन मुताबिक हजारो रू. की राषि का बिल भेज दिया है। रहवासियो ने साफ तौर पर कहा कि वह इतनी बढ़ी हुई राषि का जल बिल नहीं भरेंगे वहीं साथ ही उन्होंने दोनो काॅलोनियों में पानी की समस्या का निराकरण करने की भी बात कहीं। इस मामले को लेकर रहवासियों ने करीब आधे घंटे तक यहां हंगामा किया।
    कलेक्टर के फोन के बाद नपा सीएमओ पहुंचे मौके पर 
    जब विरोधाभास अधिक होने लगा और रहवासियों द्वारा लगातार इस संबंध में नपा सीएमओ से बात करने की मांग की जाने लगी तो यह मामला लोक अदालत के माध्यम से ही कलेक्टर तक पहुंचने पर बताया जाता है कि कलेक्टर ने नपा सीएमओ श्री निगवाल को निर्देषित किया कि वह वहां पहुंचकर रहवासियों की समस्या का निराकरण करे। ज्ञातव्य है कि प्रायः यह देखा जाता है कि जब नगर के लोग, पत्रकार एवं यहां तक कि स्वयं नपा के कर्मचारी भी किसी कार्य के चलते नपा सीएमओ से कार्यालय में मौजूद नहीं होने पर उनके मोबाईल पर संपर्क करते है, तो सीएमओ मोबाईल रिसीव नहीं करते है एवं हर मामले में टाल-मटोल रवैया अपनाते है, जिसकी परिणति के रूप में ही शनिवार को यह बड़ा मामला सामने आया। जिसमें नपा की घोर लापरवाही एवं मनमान रवैये के चलते ही रहवासियों को नपा के जल बिल के नाम पर हजारों रू. की राषि एंठने के प्रयास किए गए, लेकिन दोनो ही काॅलोनी के रहवासियों की जागरूकता के चलते यह मामला उजागर हो सका।
    19 दिसंबर को लगाएंगे काॅलोनी मेे ही केंम्प
    इस संबंध में नगरपालिका सीएमओ एमआर निगवाल से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि रहवासियों के बढ़े हुए जल बिल के मामले में निष्चित रूप से नपा से त्रुटि हुई है, जिसे सुधारा जाएगा। इस संबंध में हमारे द्वारा 19 दिसंबर को दोनो ही काॅलोनी में केंप लगाकर इन बढ़े हुए बिलों का निराकरण किया जाएगा। उक्त आष्वासन के बाद रहवासियों का आक्रोष शांत हुआ और वे नपा के स्टाॅल पर बिना बिल भरे अपने गंतव्य स्थल की ओर रवाना हुए। 
    अपील कर निराकरण करवा सकते है
    - नेशनल लोक अदालत के माध्यम से बिल भरने संबध्ंाी सूचना-पत्र जारी कर लोगों से कहा जाता है कि वह लोक अदालत में अपना बिल जमा करवाकर आवष्यक छूट का लाभ ले सकते है, लेकिन यह पाबंदी नहीं है कि उन्हें इस दौरान बिल भरना जरूरी है। रहवासियो की यदि अधिक जल बिल आने संबंधी शिकायत है तो वह अपील कर भी अपने मामले में निपटारा करवा सकते है।
    आशीष सक्सेना, कलेक्टर झाबुआ। 

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY