• Trending

    Friday, January 4, 2019

    पहले ढाबों पर कर रिया था राकेश जिस्मफरोशी का काला कारोबार अब दे रिया है घर बैठे सुविधा..... माफिया करता है इस काले कारोबार में सहयोग.....


    भियां सभी को मेरा नमस्कार... 

                लो भियां मैं फिर आ गिया कुछ कही-अनकही के साथ.... भियां कल कुछ काम से अनाचक कल्याणपुरा जाना हो गिया... काम करते करते समय का पता भी नी चला की... कब शाम हो गी.... जब घर को लौट रिया था... तो कुछ दोस्त मिल गिये...  उनसे बात करते करते एक चाय के ठेले पर रूक चाय पीने लग गिये... चाय पीते पीते दोस्त केने लगे... भियां आजकल कही-अनकही नी आ री है... मैंने किया भियां तुम मसाला ही नी दे रिये हो.... दोस्त हंसने लग गिये.... मैंने बातों ही बातों में किया.... भियां तुम्हारे यहां जो जिस्मफरोशी का काम चल रिया था... वो बंद हो गिया की नी... सुना था... मेरी कही-अनकही लगते ही राकेश यहां से चला गिया था... और अब फिर आ गिया है...। 

               दोस्त केने लगे.... भियां तुम नी मानोगे... पुछ के ही रो गे.... अब यहां क्या हो रिया है.... उसके पेले ही हम बिता दें... भियां तुमने जो कही-अनकही चलाई थी... उसमें ढाबे और 1 लाख 10 हजार वाली बात सही है... राकेश ही यहां जिस्मफरोशी का  चला रिया था... और अब घर बैठे सुविधा दे रिया है..... दिन में उसे फोन लगाओ... वाॅटसअप पर तुम्हारे पास सभी मालों के फोटो आ जायेगे... जो पसंद आये उसे नम्बर के हिसाब से बिता दो... जैसे ही जवाब दिया... माल बुक हो जाता है... और शाम को 7 बजे जो इंदौर से बस आती है.... उसमें बुक किए सारे माल आ जाते है... और मुंडत में उतार दिए जाते है.... वहां से वेगेनआर में मालों को भर निर्धारित स्थान पर छोड दिया जाता है... इस जिस्म फरोशी के काले कारोबार में भियां कई बडे लोग भी शामिल है... तभी तो भियां कोई कार्रवाई नी हो री है...। अधिकारी से लेकर छोटे तबके के कर्मचारी तक को तोफे स्वरूप समय समय पर एक एक माल मिल जाता है.... ।

              भियां ये वो ही राकेश है... जिसकी दोस्त बात कर रिये थे... जिसके बारे में पहले में कही-अनकही में बिता चुका हुं... जो भियां ढाबे में जिस्मफरोशी का काला कारोबार कर रिया था... और अब घर बैठे सुविधा दे रिया है... भियां इस जिस्मफरोशी के काले कारोबार में राकेश के संबंध अब सत्ताधारी पार्टी से है... सुत्रों की माने तो पहले जब ये पार्टी विपक्ष में थी... तब राकेश पार्टी में पदाधिकारी था... जब भियां प्रदेश में विधान सभा चुनाव हो रिये थे... तब ये हाथ में पानी लेकर कसम खाने वाले का जीतवाने के लिए अपने जिस्मफरोश के काले धंधे से कमाए रूपयों से उसे कल्याणपुरा क्षेत्र में सहयोग कर रिया था...। अब भियां पार्टी जब सत्ता में आ गी है तो फिर से अपने आकाओं के माध्यम से खुलेआम इस जिस्मफरोशी के काले कारोबार जमकर कर रिया था...। भियां सुत्र तो ये भी बिता रिये थे.... कि इस काले कारोबार में माफिया भी शामिल है... जो इस कारोबार को खुलेआम करने में राकेश की मदद कर रिया है... इस माफिया के आरामगाह पर हर चमडी का ये धंधा जमकर चलता है। 

             तो भियां अब मैं चलता हुं... लेकिन जाते जाते एक बार और बिता दुं.... भियां इस जिस्मफरोशी के काले कारोबार मैं जो नेता... अधिकारी... माफिया.... धन्नासेठ और अन्य लोग जिनका इस जिस्मफरोशी के काले कारोबार में हाथ है... उनके नाम भी जल्द ही मैं बिताउंगा.... तब पता चलेगा भियां आखिर क्यों लगाम कस नी पा रिये है... इस जिस्मफरोशी के काले कारोबार पर... 
                                 अब जा रिया... जय राम जी की। 

    Best Offer

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- Editor@VoiceofJhabua.com 

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY