• Trending

    Friday, February 8, 2019

    म.प्र. की जनजातियों के आर्थिक विकास में शासकीय योजनाओं की भूमिका पर थांदला कॉलेज में हुआ शोध संगोष्ठी का आयोजन



    थांदला।  शासकीय योजनाओं के क्रियान्वयन से ही आज मध्यप्रदेश की जनजातियों का विकास सम्भव हुआ है। आज मध्यप्रदेश ही नही अपितु पूरे भारत वर्ष में विभिन्न संस्थानों में बड़े पद पर जनजातिय विकास के परिणाम देखने को मिलते है उनकी सम्पन्नता भी दिखाई देती है। उक्त सम्बोधन दो दिवसीय राष्ट्रीय  शोध संगोष्ठी के शुभारंभ अवसर पर  मुख्य अतिथि वरिष्ठ अभिभाषाक जितेंद्र जैन ने कहे उनके साथ विशेष अतिथि के रूप में आमंत्रित अभिभाषक श्रीमंत अरोड़ा ने कहा कि आज देश आर्थिक समृद्धशाली बन रहा है तो मध्यप्रदेश भी इससे अछूता नही है। आज मध्यप्रदेश की जनजातियों में आर्थिक संपन्नता का श्रेय शासकीय योजनाओं को ही जाता है। 
    शासकीय महाविद्यालय थांदला में आज मध्य प्रदेश की जनजातियों के आर्थिक विकास में शासकीय योजनाओं की भूमिका विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय शोध एवं संगोष्ठी का आयोजन किया गया। समारोह की शुरुआत कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वरिष्ठ एडव्होकेट जितेंद्र जैन, विशेष अतिथि एडव्होकेट श्रीमंत अरोरा, अध्यक्षता प्राचार्य प्रदीप संघवी ने मा॑ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन करते हुए की। जानकारी देते हुए संस्था प्राचार्य पीके संघवी एवं कार्यक्रम संयोजक डॉक्टर जी सी मेहता ने बताया कि उच्च शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश भोपाल के सहयोग से होने वाले इस दो दिवसीय आयोजन में विभिन्न स्थानों से आये विद्वानों द्वारा राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी में मध्य प्रदेश की जनजातियों के आर्थिक विकास में शासकीय योजनाओं की भूमिका विषय शोध करते हुए अपने वक्तव्य प्रदान किए जाएंगे।
    इस अवसर पर राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रदेशाध्यक्ष पवन नाहर, प्रो. पीटर डोडियार, प्रो. मीना मावी, प्रो. एस एस मुवेल, प्रो. सेलिन मावी, प्रो.एम एस वास्केल, डॉ. गीता दुबे सहित विभिन्न स्थानों से आये शोधकर्ता एवं महाविद्यालय स्टाफ के सभी सदस्य उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रो. ऎस डुडवे ने किया व प्रो. सेलिन मावी ने आभार माना।

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- editor@VoiceofJhabua.com 

    Best Offer

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY