• Trending

    Monday, March 4, 2019

    भाजपा जिलाध्यक्ष की कुर्सी के पाये तोडने को तैयार पार्टी के पदाधिकारी...... एक धरती मां के गर्भ में केमिकल डालने वाला तो दुसरा बंटाढार दंपत्ति देख रिये है भाजपा जिलाध्यक्ष बनने के सपने


                भियां सभी को मेरा नमस्कार.... लो भियां मैं फिर आ गिया कुछ कही-अनकही के साथ... भियां राजनिती में उतार चढाव तो आते ही रेते है... 4 अक्टोबर साढे 9.... 10 बजे के लगभग जब विधानसभा चुनाव सिर पर आ गिया था... तब भाजपा में ऐसा भूचाल आ गिया कि कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर इस्तिफे देने लग गिये... वजह थी... पुराने को बदल नवा जिलाध्यक्ष ओम शर्मा रंभापुर वाले को बनना..। कुछ पदाधिकारी सोशल मीडिया पर इस्तिफे के नाम पर खुब कुद रिये थे... बडी बडी धमकी दे रिये थे... क्योकि भियां इनके काले कारनामें बंद होने जा रिये थे.... क्या काले कारनामें थे भियां ये आप खुद ही जान रिये हो.... भियां जिन्होने भी सोशल मीडिया पर उचल कुद मचाई वोई  दो दिन बाद भाजपा के मंच पर राजनिती  करते  नजर आए। आज भी ये अपने काले कारनामों को चलाने के लिए सतत शर्मा का विरोध कर रिये है।

              भियां धरती मां को छलनी की उसके गर्भ में केमिकल डालने वाला भी कुछ कम नी है... भाजपा के नाम पर ओद्योगिक क्षेत्र मेघनगर में चांदी काट लोगों को बिमारियां परोसने वाला ये भाजपाई भाजपा जिलाध्यक्ष बनने के सपने संजोये बैठा है। जो नित नए हथंकडे अपना कर नावागत भाजपा जिलाध्यक्ष को निपटाने की कोशिश में लगा हुआ है.... संगठन के प्रदेश व संभागीय स्तर के नोटछाप पदाधिकारी इसके यां आते रेते है ये उन्हे गांधीछाप भेट कर लुगाईयों की तरह इधर उधर की बातें कर संगठन में फुंट डाल रिया है और भाजपा जिलाध्यक्ष बनने के सपने देख बैठा है। 

                    भियां ऐसे ही हाल  थांदला के बंटाढार दम्पति का है जो अरसों से जिलाध्यक्ष बनने के सपने देख बैठे है.... संभागिय स्तर के एक नेताजी तो इनके यहां आये बगैर नही रह पाते है... जिस दिन मोदीजी की सभा थी... उसके एक दिन पेले भियां ये नेताजी कार्यक्रम की तैयारी करने की बजाय बंटाढार दंपत्ति के यहां आराम फरमा रिये थे...  बंटाढार दम्पति से इनका ऐसा नाता है की ये जब भी झाबुआ में कदम रखे उनके यहाँ जाते ही है।
      
                   अब जा रिया.... लेकिन जाते जाते एक बात ओर बिता दुं... भियां इतने जिलाध्यक्ष बने... सब को मैंने देख रिया था... सारे काले कारनामें करने वाले उनके ईर्द गिर्द धुमते थे.... और  जिलाध्यक्ष उनकों शरण भी देते थे... शाम होते ही मेखाने तैयार हो जाते थे... शराब शबाब और कबाब का दौर चालु हो जाता था... हिन्दुत्व की बात करते थे... पर कभी हिन्दु गरीब परिवार को सहयोग नी किया... किया तो सिर्फ उन्हे जो काले कारनामें कर रिये थे.... पहली बार देखा कि किसी भाजपा जिलाध्यक्ष के आगे पिछे माफिया नी घुम रिये है... और न ही भाजपा के नाम पर काले कारनामें करने वालों की टोली....  अब जा रिया... जय राम जी की।  

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- editor@VoiceofJhabua.com 

    Best Offer

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY