• Trending

    Tuesday, March 12, 2019

    ’आबकारी आफिस बना आवक-कारी आफिस’ ...... कर्मचारी कम माफिया यहां ज्यादा नजर आते है


    थांदला से अजय सेठिया की रिपोर्ट.....
    थांदला आबकारी आॅफिस की हालत मानो फटे हाल नजर आ रही है.... न कोई न सफाई ..... न कोई कर्मचारी... चारों तरफ फैली गंदगी से आबकारी कार्यालय कबाड सा नजर आ रहा है.... ऐसे में विभाग क्या शराब माफियाओं पर क्या कार्रवाई करता होगा.... कई सावालिया निशान खडे होते नजर आ रहे है....। 
    यहां पर पदस्थ स्टाॅफ को कार्यालय की बिल्कुल चिन्ता नही है.... पुरा स्टाॅफ अपनी जेब गर्म करने में लगा रहा है। क्षेत्र में कई शराब के अवैध अडडे है... फिर भी इनकी नजर इन अवैध शराब विक्रेताओं पर नही पडती है... ऐसे में थांदला क्षेत्र में आबकारी कर्मचारियों की बदौलत जगह जगह शराब के अडडे खुले हुए है। 
    ’कुछ देर आना और खानापूर्ति करके चले जाना’
    यहां पर आबकारी स्टाॅफ तो ने लेकिन इनका यहां आना कोई निर्धारित नही है... कभी भी आओ... और कभी भी चले जाओ... यहां का यहीं हाल है। काफी समय से कार्यालय पर लगा बार्ड फटा पडा है लेकिन यहां पदस्थ कर्मचारी अधिकारी को ने एक बार भी उसे बदवाने का सोचा तक नही। ऐसा लता है मानो आबकारी विभाग फटे हाल है। 
    कहने को तो यह आबकारी विभाग है... जो अवैध शराब और माफियों पर नकेल कस सके। लेकिन यहां विभागीय कर्मचारी तो कम नजर आते है... शराब माफियाओं को डेरा यहां ज्यादा लगा रहता है.... अधिकारी कर्मचारी हो या न हो... माफिया यहां कुर्सी गर्म करने जरूर आते है। तभी तो आबकारी विभाग आवक- कारी विभाग ज्यादा नजर आता है...। सिर्फ यहां कर्मचारियों की माफियाओं से आवक होती है... कार्रवाई नही। 

    @Editor

    अपने शहर की खबरें , फोटो , वीडियो आदि भेजने के लिए हमें सीधे ईमेल करे :- editor@VoiceofJhabua.com 

    Best Offer

    RECENT NEWS

    PHOTO GALLERY